सीएम नीतीश कुमार ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये रोहतास के दो क्वारंटाइन केंद्र में मौजूद श्रमिक से किये बातचीत

0
131

बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने शुक्रवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से नोखा नगर पंचायत स्थित सर्वोदय मध्य विद्यालय स्थित क्वारंटीन केंद्र एवं तिलौथू प्रखंड के पतुलका मध्य विद्यालय क्वारंटाइन केंद्र में मौजूद प्रवासी श्रमिकों से बातचीत की. इस दौरान नोखा के क्वारंटीन केंद्र पर डीएम पंकज दीक्षित एवं पतलुका के क्वारंटीन केंद्र पर एसपी सत्यवीर सिंह मौजूद रहे. सीएम ने यह जानने की कोशिश की कि प्रवासी श्रमिकों के लिए बने क्वारंटीन सेंटर किस तरह कार्य कर रहे हैं. सीएम नीतीश कुमार ने ना सिर्फ क्वारंटीन सेंटर में रह रहे प्रवासी श्रमिकों से बात की बल्कि उनसे पूछा कि आपको वहां किसी तरह की परेशानी है तो खुलकर बताइए. मुख्यमंत्री ने प्रवासी श्रमिकों से यह भी आग्रह किया कि अब आप बिहार में ही रहिए और अपने स्किल से बिहार का विकास कीजिए.

सीएम ने नोखा नगर पंचायत स्थित सर्वोदय मध्य विद्यालय क्वारंटीन केंद्र में रह रही एक प्रवासी महिला से पूछा कि आपको वहां रहते हुए 14 दिन पूरा हो रहा है, ऐसे में आपको कोई परेशानी तो नहीं हुई. प्रवासी महिला का जवाब था- ‘नहीं सर, कोई परेशानी नहीं हुई.’ महिला की बात सुन सीएम नीतीश कुमार ने उन्हे शुभकामनाएं देते हुए कहा कि बस अब आप यहीं बिहार में ही रहिए. सीएम ने विडियो कांफ्रेसिंग के दौरान नोखा के सर्वोदय मध्य विद्यालय स्थित क्वारंटीन केंद्र के स्थिति का जांच किए.

इसके अलावा सीएम ने क्वारंटीन केंद्र में रह रहे लोगों से अपील करते हुए कहा कि क्वारंटीन सेंटर में रहना आपके हित में है. आप सभी सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन करें क्योंकि कोरोना से बचाव का यही प्रभावी उपाय है. क्वारंटीन केंद्र पर रह रहे लोगों को आश्वासन दिया कि बिहार में उन्हें किसी प्रकार की परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा. सीएम ने सभी प्रवासी मजदूरों को बिहार में ही काम देने और इच्छुक लोगों का जॉब कार्ड बनाने का निर्देश जिलाधिकारी को दिया है. मुख्यमंत्री ने कहा है कि सभी को उनके स्किल के अनुरूप रोजगार उपलब्ध कराएं और मजदूरों के स्किल के अनुरूप ही उद्योंगो को बढ़ावा दें.

वहीं, डीएम पंकज दीक्षित ने क्वारंटाइन केंद्र पर रह रहे श्रमिकों से कहा सरकार का प्रयास है कि आप लोगों को कौशल के अनुसार काम भी बिहार में दिया जाएगा. कोई राजमिस्त्री काम करता है, तो कोई कुशल कारीगर जो जिसका अनुभव रखा है उसको उसके अनुसार ही यहां पर काम दी जाएगी. जिलाधिकारी ने कहा कि हर घर नल योजना के लिए आज जितनी बिहार को प्लंबर की आवश्यकता है, उतनी देश को नहीं. जबकि बिहार से बाहर काम कर रहे अधिकतर प्रवासी श्रमिक प्लम्बर का काम करते है. उन्हें अब स्थानीय क्षेत्र में ही रोजगार उपलब्ध कराया जायेगा. जिलाधिकारी ने कहा कि जिन प्रवासियों का बैंक खाता बिहार का नहीं है, उनका खाता खुलवाया जा रहा है. ताकि उनके खाते में एक हजार की राशि जा सकते. उन्होंने पतलुका मध्य विद्यालय क्वारंटीन केंद्र का उदाहरण देते हुए कहा कि जिले के एक ऐसा सेंटर भी है, जहां पर श्रमिक अपने पर बैठे न रहने के बजाये लॉकडाउन के दौरान बंद विद्यालय की सफाई से साथ फुल-पौधों में सिंचाई कर रहे. साथ ही विद्यालय परिसर में उग आई झाड़ियों को साफ कर सब्जी उपजा रहे.

इस मौके नोखा नगर पंचायत के सर्वोदय मध्य विद्यालय क्वारंटीन केंद्र पर नोखा नगर पंचायत के कार्यपालक पदाधिकारी सुशील कुमार, थानाध्यक्ष नवरोतम चन्द्र, बीडीओ राम जी पसावन सहित कई लोग मौजूद रहे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here