शिवसागर के 15 पंचायतों में योजनाओं की हुई जांच, गांव पहुंच डीएम ने देखा विकास का हाल, शिकायत पर पानी पीकर किया जांच; पीएचईडी जेई समेत 19 को शोकॉज

रोहतास के शिवसागर प्रखंड में डीएम के नेतृत्व में गुरूवार को सभी 15 पंचायतों में संचालित योजनाओं की स्थलीय औचक जांच की गई. जिसमें कई प्रकार की अनियमितताएं मिली है. अधिकारियों ने पंचायत की दो पेयजल योजना, दो जन वितरण प्रणाली दुकान, दो विद्यालयों एवं स्वास्थ्य केन्द्रों की जांच की. इस मामले में डीएम ने कार्रवाई करते हुए स्पष्टीकरण पूछा है. जांच के बाद डीएम ने एक-एक करके सभी विभागों के कार्यों की समीक्षा की.

डीएम ने खुद सोनहर पंचायत अंतर्गत प्राथमिक विद्यालय भद्रशीला पहुंचकर औचक निरीक्षण किया. विद्यालय में पेयजल आपूर्ति अवरुद्ध होने के कारण मध्याह्न भोजन बंद पाया गया. इस संबंध में डीएम ने लोक स्वास्थ्य प्रमंडल के कार्यपालक अभियंता को निर्देश दिया कि विद्यालय परिसर में बंद पड़े चापाकल को अविलंब संचालित कराना सुनिश्चित करें. साथ ही वार्ड 16 में क्रियान्वित पेयजल योजना से विद्यालय में जल आपूर्ति प्रारंभ करना सुनिश्चित करें. डीएम द्वारा प्राथमिक विद्यालय तेलीपोखर के निरीक्षण के क्रम में दो शिक्षक अनुपस्थित पाए गए. जिनको शोकॉज करते हुए वेतन पर रोक लगा दिया गया है.

जांच के दौरान लोगों के शिकायत पर डीएम ने चापाकल का पानी पीकर जांच किया. जिसमें पानी पीने के लिए अयोग्य पाया गया. इस संबंध में डीएम ने लोक स्वास्थ्य प्रमंडल को निर्देश दिया कि विद्यालय के समीप चापाकल की मरम्मती कराते हुए अविलंब संचालित करना सुनिश्चित करें. साथ ही वार्ड संख्या 01 में पीएचइडी द्वारा संचालित मिनी जलापूर्ति योजना का क्रियान्वयन सही प्रकार से कराने का निर्देश दिया गया. उपरोक्त के संबंध में पीएचईडी के जेई मनोरंजन कुमार से शोकॉज करते हुए उनके वेतन निकासी पर रोक लगाई गई है.

इस दौरान डीएम ने लोगों से पंचायतों में चल रही विभिन्न योजनाओं की जानकारी ली. ग्रामीणों ने पेयजल, मिड डे मील समेत विभिन्न प्रकार की शिकायतें की. लोगों की मांग पर डीएम ने जिला कार्यक्रम पदाधिकारी मनरेगा को निर्देश दिया कि ग्राम तेलीपोखार में सामुदायिक भवन के समीप स्थान में मनरेगा योजना अंतर्गत समतलीकरण एवं खेल मैदान विकसित करने के लिए अग्रेतर कारवाई करना सुनिश्चित करें. डीएम ने कहा कि अधिकारियों के समक्ष बेफ्रिक होकर समस्याएं रखें. तभी उसका समाधान होगा. घबराने या डरने की जरूरत नहीं है.

डीपीआरओ प्रवीण चंदन ने बताया कि जांच के बाद समीक्षा में डीएम ने कई निर्देश दिए. पंचायत कोनकी में श्रीमती कुंती देवी के जन वितरण प्रणाली दुकान की जांच के क्रम में स्टॉक एवं पॉस मशीन में 109 खाद्यान बैग कम पाया गया. इस संबंध में जिला आपूर्ति पदाधिकारी को आवश्यक कार्रवाई हेतु निर्देशित किया गया. शिवसागर अंतर्गत स्वास्थ्य उप केंद्रों के अव्यवस्थित संचालन के संबंध में 11 एएनएम को शोकॉज करते हुए उनके वेतन निकासी पर अगले आदेश तक रोक लगाई गई है. अपर समाहर्ता अपर जिला दंडाधिकारी द्वारा अंचल शिवसागर में जमाबंदी सुधार, आरओआर डिजिटाइजेशन, दाखिल खारिज, परिमार्जन आदि की जांच की गई.

समीक्षा में त्रुटियां पाई गई जिस संबंध में अंचलाधिकारी, राजस्व अधिकारी एवं प्रधान सहायक से शोकॉज किया गया है. जांच दलों द्वारा प्रखंड अंतर्गत अधिकांश विद्यालयों में मध्यान भोजन संचालित नहीं पाया गया. इस संबंध में डीएम द्वारा प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी एवं बीआरपी मध्याहन भोजन को शोकॉज करते हुए उनके वेतन निकासी पर रोक लगा दिया. साथ ही जिला कार्यक्रम पदाधिकारी मध्याहन को निर्देश दिया कि प्रतिदिन सभी बीआरपी से मध्यान भोजन संचालन के संबंध में प्रतिवेदन प्राप्त करते हुए इसकी सूचना प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी को देना सुनिश्चित करें. कहा कि इसके साथ-साथ अधिकांश विद्यालयों में शौचालय, जलापूर्ति संबंधी शिकायतें प्राप्त हुई है. जिस पर अग्रेतर कार्रवाई की जाएगी.

Leave a Reply