रोहतास के डीएम की पहल, कोरोना जांच के लिए गांव-गांव जाएगी टीम, चलंत ओपीडी की भी सेवा

रोहतास जिले में कोरोना के दूसरी लहर में जिलाधिकारी धर्मेंद्र कुमार द्वारा शुक्रवार से “चिकित्सक आपके द्वार” सेवा की शुरुआत की गई. इस योजना से जिले के दूरस्थ क्षेत्रों में रहने वाले लोग को घर बैठे ही विशेषज्ञ डॉक्टरों की स्वास्थ्य से जुड़ी सलाह मिल सकेंगे. साथ ही चिकित्सा आपके द्वार की मेडिकल टीम सुदूर ग्रामीण एवं पर्वतीय क्षेत्रों में लोगों के पास पहुँचकर उनका रैपिड एन्टीजेन टेस्ट करेगी. इसके अलावे बल्कि कोविड-19 से संबंधित सभी प्रकार के चिकित्सकीय परामर्श एवं उपचार संबंधित व्यक्तियों को प्रदान किया जायेगा. साथ ही वैसे अन्य रोगी जो कोविड- को छोड़कर अन्य किसी भी बीमारी के उपचार को इच्छुक हों, उन्हें उन बीमारियों से संबंधित चिकित्सकीय परामर्श एवं आवश्यक दवाएँ भी उनके द्वार पर ही उपलब्ध करायी जायेगी अर्थात् वर्णित चिकित्सा दल वस्तुतः चलन्त ओपीडी के रूप में कार्यरत रहेगा.

इसके लिए प्रत्येक अनुमंडल क्षेत्र हेतु एक-एक डेडिकेटेड चिकित्सीय वाहन उपलब्ध कराया गया है. जिन पर सभी आवश्यक चिकित्सीय संसाधनों से युक्त चिकित्सा दल उपस्थित है. उक्त दल में एक चिकित्सक के साथ दो एएनएम तथा एक डेटा इन्ट्री ऑपरेटर प्रतिनियुक्त है. डॉक्टरों से लैस इस डेडिकेटेड चिकित्सीय वाहनों को डीएम धर्मेंद्र कुमार ने रवाना किया. यह टीम गांंव की ओर जाएगी. डीएम ने बताया कि रोहतास कोविड-19 के महामारी के द्वितीय लहर का मजबूती से सामना कर रहा है. रोहतास जिले का भौगोलिक क्षेत्र काफी विस्तृत है. इस कार्यक्रम का उद्देश्य जिले के सुदूरवर्ती आंचलिक क्षेत्रों में स्वास्थ्य सुविधाओं को सहज रूप में जनमानस को उपलब्ध कराया जाना है.

डीएम ने कहा कि हमें पूर्ण विश्वास है कि हम सभी के सामूहिक प्रयासों एवं आप सबों के सहयोग से यह कार्यक्रम सफल एवं सार्थक रहेगा. उन्होंने बताया कि सासाराम, डेहरी व बिक्रमगंज शहर में भी दो-दो अस्थायी सैंपल संग्रहण सह जांच बूथ की भी स्थापना की गई. जहां पर बाजार घर से बाहर निकलने वालों की सैंपल संग्रहित की जा रही है. इस अवसर पर सिविल सर्जन डॉ. सुधीर कुमार, डीडीसी सुरेन्द्र प्रसाद, उप निर्वाचन पदाधिकारी सत्यप्रिय कुमार, सदर एसडीएम मनोज कुमार समेत अन्य अधिकारी भी मौजूद रहे.

Ad.

Leave a Reply