सासाराम में गुरुद्वारा टकसाल संगत से निकली प्रभातफेरी, 20 को गुरु गोविंद सिंह का 354वां प्रकाश पर्व

दशमेश गुरु श्री गुरु गोविंद सिंह जी का 354वां प्रकाश पर्व 20 जनवरी को हर्षोल्लास व श्रद्धाभाव से मनाया जाएगा. सिख समाज ने प्रकाश उत्सव मनाने की तैयारियां शुरू कर दी हैं. सासाराम शहर के तमाम गुरुद्वारों में विशेष सजावट की जा रही है. शहर के जानी बाजार मोहल्ला स्थित टकसाल संगत साहिब गुरुद्वारे पर विशेष विद्युत सज्जा की जा रही है. वहीं प्रकाश पर्व को लेकर प्रतिदिन अहले सुबह में प्रभात फेरी निकाली जा रही है. जो 16 जनवरी को शुरू हुई थी. जिसका समापन 19 जनवरी को होगा.

Ad.

सोमवार को भी अमृतवेले में झूलते निशान साहिब के साथ ऐतिहासिक गुरुद्वारा टकसाल संगत साहिब से लगातार तीसरे दिन प्रभातफेरी निकली, जो नगर के विभिन्न मार्गों का भ्रमण करते हुए वापस गुरुद्वारा साहिब पहुंच कर सम्पन्न हुई. सासाराम शहर की गलियां ‘वाहो वाहो गोबिंद सिंह जी’ के जयकारों से गुंजायमान हो गई. प्रभातफेरी में बड़ी संख्या में सिक्ख संगत शामिल हुए. रास्ते में कई जगहों पर संगत के सत्कार में जलपान एवं अल्पाहार की भी व्यवस्था रही.

श्री गुरुनानक देव गुरुद्वारा प्रबंध कमेटी, फूलबाग के अध्यक्ष एचएस कोचर सचिव कृपाल सिंह ने बताया कि प्रकाश उत्सव के अंतर्गत 18 जनवरी से अखंड पाठ साहिब से शुरू हो जाएगा. 20 जनवरी को भोग श्री अखंड साहिब सुबह 8:30 बजे लगेगा. 19 जनवरी को शाम 7 बजे से रात 9:30 बजे तक एवं 20 जनवरी को सुबह 10 से दोपहर 2:30 बजे तक कीर्तन दरबार सजेगा. भाई जसविंदर सिंह (अमृतसर) एवं जसप्रीत सिंह हुजूरी रागी गुरुद्वारा फूलबाग कीर्तन जत्था के प्रमुख रहेंगे. प्रचारक हरप्रीत सिंह अलोगो (खडूर साहब), जितेंदर सिंह हजूरी ग्रंथी गुरुद्वारा फूलबाग होंगे. गुरुद्वारे में सुबह 9 से शाम 7 बजे तक लंगर चलता है. प्रकाशपर्व के अवसर पर यह अटूट लंगर और भी अधिक बड़े पैमाने पर लगेगा.

गुरुद्वारा के सिमरनजीत सिंह ने बताया कि समारोह का समापन 22 जनवरी को नगर कीर्तन के साथ होगा, जो कि गुरुद्वारा टकसाल संगत साहिब से श्री गुरु ग्रन्थ साहिब जी महाराज की छत्रछाया में, पंज प्यारों की अगुवाई में, हाथी, घोड़े, ऊंट, बैंड-बाजे, ढोल नगाड़े, गतका पार्टियों, कीर्तनी जत्थों के साथ दोपहर 12 बजे प्रारंभ होगी एवं नगर भ्रमण करते हुए रात्रि 8 बजे गुरुद्वारा साहिब पहुंच कर सम्पन्न होगी.

Leave a Reply