रोहतास व कैमूर के वाटरफॉल ईको टूरिज्म के तहत होंगे विकसित, तुतला भवानी जलकुंड की होगी बैरिकेडिंग

बिहार सरकार में पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री नीरज कुमार सिंह उर्फ बब्लू इको टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए रोहतास के दौरे पर हैं. दूसरे दिन शुक्रवार को पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री तिलौथू के तुतला भवानी ईको पर्यटन स्थल पहुंचे. यहां पर उन्होंने तुतला भवानी मंदिर में दर्शन पूजन किया. उसके बाद रोहतास डीएफओ प्रद्युम्न गौरव के साथ इस दर्शनीय स्थल को पर्यटन की दृष्टि से और कैसे बेहतर बनाया जा सके इस पर विस्तार से चर्चा की. मंत्री के साथ उनकी एमएलसी पत्नी नूतन सिंह भी मौजूद थी.

मौके पर मंत्री ने बताया कि यह ऐतिहासिक व दर्शनीय स्थान तुतला भवानी धाम व झरना अत्यंत ही मनोरम प्राकृतिक व रमणीक जगह है. इस जगह को और भी कैसे बेहतर व इको फ्रेंडली बनाया जा सके इस पर विभाग मंथन करेगा. डीएफओ प्रद्युम्न गौरव ने तुतला धाम की समस्याओं से मंत्री को अवगत कराया. मंत्री ने कहा कि बरसात खत्म होते ही जलकुंड की बैरिकेडिंग करायी जाए. वन शक्ति देवी के पास ईको पार्क की व्यवस्था की जाएगी. उन्होंने कहा कि तुतला भवानी में ई-रिक्शा की संख्या बढ़ाई जाएगी. इससे स्थानीय लोगों को रोजगार भी मिलेगा. तुतला भवानी ईको पर्यटन स्थल से लोगों को रोजगार मिलेगा. उन्होंने कहा कि यहां जल्द ही बाथरूम, चेगिंग रूम आदि की व्यवस्था की जाएगी.

इससे पहले वन एवं पर्यावरण मंत्री नीरज कुमार बब्लू ने जुमहार के नारायण मेडिकल कॉलेज के सभागार में आयोजित प्रेस वार्ता में बताया कि रोहतास कैमूर के कैमूर पहाड़ी से गिरने वाले लगभग दो सौ वाटर फाल हैं जो आने वाले दिनों में देश-विदेश के सैलानियों को आकर्षित कर सकते हैं. इन पर इको टूरिज्म के तहत विकसित करने का काम किया जाएगा. मंत्री ने जंगली बेर में पाए जाने वाले उच्च कोटी के कैल्शियम पर हाल के दिनों में किए गए सफलता पूर्वक काम और आरण़्य हानि के उत्पादन को वन विभाग की उपलब्धि करार दी. मंत्री ने कैमूर पहाड़ी के ऊपर मौजूद मुंडेश्वरी धाम से लेकर गुप्ता धाम, शेरगढ़, ताराचंडी, तुतला भवानी, महादेव खोह, रोहतासगढ़, चौरासन मंदिर आदि स्थलों के विकास पर भी चर्चा की.

सैलानियों की सुविधा को ध्यान में रख कैमूर पहाड़ी के आसपास के स्थलों तक सड़कों का निर्माण कराया जाएगा. वन विभाग वनवासियों के हित और रोजगार सृजन के कार्य में लगा है. उन्होंने कहा कि वन संपदा और पर्यटन से होने वाली आमदनी का 20 फीसद स्थानीय लोगों के विकास के लिए खर्च किए जाएंगे. देर शाम मंत्री शेरशाह का मकबरा पहुंचे. शहर के बिचोबिचों स्थित मकबरा के नक्कासी को अद्भुत बताया. उन्होंने कहा कि इसके तालाब में नौका विहार शुरू करने के लिए जिलाधिकारी से बात करेंगे.

Leave a Reply