रोहतास डीएम ने यूक्रेन में फंसे छात्रों के लिए जारी किए हेल्पलाइन नंबर, मदद का दिया आश्वासन; प्रशासन को सात लोगों की मिली सूची

रूस-यूक्रेन के बीच जारी युद्ध के कारण उत्पन्न स्थिति में यूक्रेन में फंसे भारतीय नागरिक व छात्र-छात्राओं की सकुशल घर वापसी के लिए मुख्य सचिव की वीडियो कांफ्रेसिंग में मिले निर्देश के बाद जिलाधिकारी धर्मेन्द्र कुमार ने मंगलवार को प्रशासनिक अधिकारियों के साथ आपात बैठक की. यूक्रेन में फंसे जिला के छात्रों को सकुशल लाने पर विचार किया गया.

डीएम ने कहा कि यूक्रेन में फंसे छात्रों की सकुशल वापसी के लिए सरकार एवं जिला प्रशासन पूरी तरह से तत्पर एवं प्रतिबद्ध है. उन्होंने कहा कि स्थानीय प्रशासन द्वारा यूक्रेन में फंसे छात्रों के परिजनों से मिलकर छात्रों के वर्तमान स्थिति एवं उनके और भी फंसे हुए सहयोगी के बारे में जानकारी प्राप्त करते हुए उन्हें हर संभव मदद करने की प्रयास किया जा है. यूक्रेन में उत्पन्न वर्तमान संकट के कारण वहां के अलग-अलग हिस्सों में फंसे हुए रोहतास जिले के छात्र-छात्राओं व नागरिकों सकुशल घर वापसी सुनिश्चित कराने हेतु राज्य सरकार के स्तर पर कार्रवाई की जा रही है.

उक्त के आलोक में रोहतास जिला स्तर पर वैसे छात्रों के अभिभावकों एवं अन्य लोगों के स्वजनों को आवश्यक सहायता देने हेतु जिला नियंत्रण कक्ष-सह-सहायता केंद्र जिला आपदा शाखा में स्थापित किया गया है. डीएम के आदेश पर नोडल पदाधिकारी का मोबाइल व व्हाट्सएप नंबर 9525625496 जारी किया गया है. इसके अतिरिक्त जिला नियंत्रण कक्ष के लिए दूरभाष संख्या 06184-22893, आपदा विभाग बिहार का दूरभाष संख्या 0612-2294204 तथा टोल फ्री नंबर 1070 आवंटित किया गया है. यह नियंत्रण कक्ष अगले आदेश तक 24 घंटे कार्यरत रहेगा. इसके अलावे ईमेल आईडी [email protected] , [email protected] , [email protected][email protected] जारी किया गया है.

डीएम ने नोडल पदाधिकारी को यूक्रेन से संबंधित आने वाले फोन कॉल्स का टाइमली और सूटेबल रेस्पॉन्स देने का निर्देश दिया है. उन्होंने जिलावासियों से अपील की है कि यूक्रेन में फंसे छात्रों व नागरिकों से संबंधित जानकारी इन संपर्क नंबरों व ईमेल पर उपलब्ध करा सकते हैं, ताकि सकुशल वापसी हेतु संपर्क करते हुए अग्रेतर कार्रवाई किया जा सके. आपदा प्रबंधन विभाग बिहार के सूचि के अनुसार रोहतास जिले के सात छात्र युक्रेन में फंसे है. डीएम ने इनमें से एक छात्र सुशांत प्रसाद के पिता रविशंकर प्रसाद से मुलाकात कर उन्हें हरसंभव मदद का आश्वासन दिया तथा उन्हें इस सिलसिले में बिहार सरकार द्वारा किए जा रहे प्रयासों से अवगत कराया.

साथ ही, डीएम ने शेष 6 छात्रों के माता-पिता से संबंधित अनुमंडल पदाधिकारी को मुलाकात कर राज्य सरकार द्वारा इस निमित्त किये जा रहे प्रयासों की जानकारी देने एवं हरसंभव मदद करने का निर्देश दिया. उन्होंने सभी अनुमंडल पदाधिकारी, सभी भूमि सुधार उप समाहर्ता, सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी तथा सभी अंचल अधिकारियों को निर्देश दिया कि आपदा प्रबंधन विभाग बिहार सरकार द्वारा यूक्रेन में फंसे छात्र-छात्राओं की सूची के अनुसार संबंधित क्षेत्र के छात्रों के परिजनों से पदाधिकारी निश्चित रूप से स्वयं जाकर मिले एवं वस्तु स्थिति से उन्हें अवगत करायें. साथ ही उनके परिजनों से यह भी पता करें कि उनके साथ और भी कोई छात्र या व्यक्ति अगर फंसे हैं तो उनकी विस्तृत विवरण जिला प्रशासन के साथ साझा करें.

Leave a Reply