रोहतास: पुराने लोहे के पुल चोरी मामले में एसआईटी गठित, मौके पर पहुंच एसपी ने की जांच

रोहतास जिले के नासरीगंज प्रखंड के अमियावर गांव से एक लोहे के पुल के अवशेष की चोरी का मामला सुर्खियों में है. इसपर अब राजनीति भी शुरू हो गई है. रोहतास पुलिस भी अब जा कर सक्रिय हुई है. घटना के पांच दिन बाद शनिवार को रोहतास एसपी आशीष भारती दल-बल के साथ अमियावर गांव पहुंचे. एसपी ने ग्रामीणों से बातचीत भी की.

एसपी ने कहा कि मामले की गंभीरता को देखते हुए बिक्रमगंज एसडीपीओ के नेतृत्व में एसआईटी का गठन किया गया है. पुलिस जल्द ही मामले का खुलासा करेगी और चोरी गए पुल के सामग्री को बरामद कर लिया जाएगा. कहा कि एसआईटी टीम के द्वारा इस कांड में संलिप्त अज्ञात चोरों एवं चोरी की गई सामानों की बरामदगी के लिए लगातार संदिग्ध स्थानों पर छापेमारी की जा रही है.

उन्होंने बताया कि उक्त जर्जर लोहे का पुल का अवशेष आरा मुख्य नहर से 16 किलोमीटर की दूरी पर अमियावर गांव में स्थित था. सोन नगर प्रमंडल बिक्रमगंज की स्थापना वर्ष 1976 में हुई है. उक्त चोरी गए लोहे के जर्जर पुराना पुल का उपयोग ग्रामीणों द्वारा पिछले 18-20 वर्षों से नहीं किया जा रहा था. इससे लगभग 150 फीट की दूरी पर आरसीसी पुल निर्मित है, जिससे ग्रामीणों का आवागमन होता है. कुछ दिनों पूर्व उक्त पुल के अवशेष को अज्ञात व्यक्ति के द्वारा काटा जा रहा था.

जिस संबंध में ग्रामीणों द्वारा पूछने पर उनलोगों के द्वारा बताया गया कि सिंचाई विभाग के कर्मचारी हैं तथा विभागीय आदेश से लोहे के जर्जर पुराना पुल के अवशेष को ले जाने के लिए काटा जा रहा है. इसी कारण से ग्रामीणों द्वारा इस घटना की सूचना नासरीगंज थाना में कई दिनों के विलंब से दिया गया. इस संबंध में नासरीगंज थाना द्वारा पता किया गया तो जानकारी मिली कि जर्जर पुल के अवशेष को काटने का किसी प्रकार का विभागीय आदेश नहीं था. स्थानीय मीडियाकर्मियों द्वारा जब विभाग के कार्यपालक अभियंता से इस संबंध में पूछा तब विभाग को जानकारी हुई, तब जा कर गुरुवार को मामले में प्राथमिकी दर्ज की गई. अब पूरे मामले की जांच एसआईटी कर रही है.

Leave a Reply