रोक के बाद सुना पड़ा मां ताराचंडी मंदिर परिसर, इस वर्ष भी नहीं होगा महोत्सव

कोरोना संक्रमण की रफ्तार तेजी से बढ़ने के बाद सरकार के निर्देश के बाद सासाराम स्थित ऐतहासिक मां ताराचंडी शक्तिपीठ में 30 अप्रैल तक आम लोगों के प्रवेश पर रोक के बाद रविवार को मंदिर परिसर सुनसान पड़ा रहा. इस बीच इस आदेश की गैरजानकारी में मंदिर पहुंचे लोग मुख्य गेट बंद देखकर बैरंग ही लौटने को विवश हुए.

रविवार की सुबह मंदिर परिसर में कुछ श्रद्धालु पूजा अर्चना के लिए पहुंचे, लेकिन मंदिर के बंद रहने के कारण यहां आने वाले लोगों ने मंदिर कैंपस तथा मंदिर के गेट से ही मां की पूजा अर्चना की. मंदिर के पुजारियों ने बताया कि सरकार के निर्देश के बाद 30 अप्रैल तक मंदिर में आम लोगों के प्रवेश व पूला अर्चना पर रोक लगा दी गई है. रविवार को सुबह मां की पूजा अर्चना व आरती के वक्त मंदिर के पुजारी ही अंदर गए. पूजा अर्चना के बाद मंदिर के गेट को बंद कर दिया गया. चैत्र नवरात्र के दौरान भी इस व्यवस्था को लागू रखा जाएगा.

वहीं पिछली वर्ष की तरह ही इस वर्ष भी कोरोना संक्रमण को ले मां ताराचंडी महोत्सव का आयोजन स्थगित कर दिया गया है. बिहार सरकार के निर्देशानुसार बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए मां ताराचंडी महोत्सव कमिटी के आयोजनकर्ता दया दूबे व फूलन पांडेय ने बताया की इस वर्ष भी ताराचंडी महोत्सव का आयोजन नहीं किया जाएगा. विदित हो कि वर्ष 2013 से हीं ताराचंडी महोत्सव कमिटी द्वारा ताराचंडी महोत्सव का आयोजन होता रहा है.

Ad.

Leave a Reply