निगरानी की रेड के बाद कार्रवाई: सासाराम नगर निगम आयुक्त पद से हटाए गए राजेश गुप्ता

रोहतास के भू-अर्जन पदाधिकारी सह सासाराम नगर निगम के प्रभारी नगर आयुक्त राजेश कुमार गुप्ता पर निगरानी के छापा के बाद पहली गाज गिरी है. उनसे सासाराम नगर निगम के आयुक्त का प्रभार वापस ले लिया गया है. उन्हें पांच माह पहले नगर आयुक्त का प्रभार दिया गया था. अब भू-अर्जन विभाग द्वारा विभागीय कार्रवाई का इंतजार है.

शनिवार को निगरानी विभाग की टीम ने आय से अधिक संपत्ति के मामले में राजेश कुमार गुप्ता के सासाराम, पटना एवं फारबिसगंज के ठिकानों पर एक साथ छापेमारी की थी. छापेमारी में करोड़ों की चल-अचल संपत्ति का खुलासा हुआ है. निगरानी विभाग ने बताया कि 25 नवंबर को भू-अर्जन पदाधिकारी राजेश कुमार गुप्ता के विरूद्ध ज्ञात वैध स्त्रोतों से लगभग 90 लाख 11 हजार 984 रूपये अधिक संपति अर्जित करने के आरोप में प्रत्यानुपातिक धनार्जन से संबंधित निगरानी थाना में प्राथमिकी दर्ज की गई.

जिसके बाद शनिवार को सासाराम, पटना एवं फारबिसगंज में छापेमारी के क्रम में अबतक 21 लाख 72 हजार नगद, लगभग 61 लाख 67 हजार के जेवरात, 6 फ्लैट के कागजात, पूर्णिया में चार बीघा जमीन, रांची में 55 हजार वर्गफीट जमीन के कागजात जिसमें मकान भी निर्मित है, विभिन्न बैंकों में 25 पासबुक तथा 6 एटीएम कार्ड व दो लॉकर भी बरामद किया गया है. विभिन्न शहरों के जमीन संबंधित 39 डीड एवं एलआईसी से संबंधित कागजात बरामद किए गए है. जेवरात में स्वर्ण आभूषण के अलावा पांच सोना के बिस्किट तथा सोने का एक कलम मिला है. कलम की कीमत 46 हजार रुपया बतायी जा रही है.

छापेमारी के बाद जिला प्रशासन में भी हड़कंप की स्थिति रही. क्योंकि राजेश गुप्ता सासाराम में ना सिर्फ भू-अर्जन पदाधिकारी के रूप में तैनात थे, बल्कि अपने तीन साल के कार्यकाल में कई महत्वपूर्ण विभागों के प्रभार में भी रहे हैं. वर्तमान में वे नगर निगम के आयुक्त जैसे महत्वपूर्ण पद के प्रभार में थे, जिससे उन्हें हटा दिया गया है. डीएम धर्मेन्द्र कुमार ने बताया कि छापेमारी के बाद राजेश कुमार से नगर निगम का प्रभार ले लिया गया है. उन्होंने बताया कि नगर आयुक्त के प्रभार दिए जाने के कुछ माह बाद ही बोर्ड भंग हो जाने के बाद नगर निगम के बेहतर संचालन के लिए पांच सदस्यीय अधिकारियों की सशक्त कमिटी का गठन कर दिया गया था. सहयोग के लिए दो सहायक नगर आयुक्त भी डीएम ने नियुक्त कर दिया था.

Leave a Reply