रोहतास: लॉकडाउन की घोषणा होते ही बाजारों में उमड़ी भीड़, सोशल डिस्टेंसिंग की ऐसी-तैसी

कोरोना संकट के कारण बिहार सरकार ने जैसे ही पांच 15 मई तक लॉकडाउन की घोषणा की तो रोहतास के सभी बाजारों में भीड़ उमड़ पड़ी. किसी ने बाजारों से घर का राशन खरीदा तो किसी ने फल और सब्जी. इसके अलावे कपड़ा से लेकर श्रृंगार व जूता-चप्पल तक कोई ऐसा दुकान नहीं होगी जहां खरीदारों की भीड़ न हो. शहर की बात तो दूर दोपहर बाद ग्रामीण इलाके भी काफी संख्या में लोग सामान खरीदने के लिए बाजार को पहुंच गए थे. इस दौरान भागदौड़ की स्थिति में लोग शारीरिक दूरी के नियमों को भूल गए. सोशल डिस्टेंसिंग की भी खूब धज्जियां उड़ी.

हालांकि लॉकडाउन की घोषणा के बाद पुलिस-प्रशासन की ओर से बाजारों में गश्त देखने को मिली. कई पुलिसकर्मी लोगों को कोरोना गाइडलाइन के बारे में समझाते हुए भी दिखे. वैसे लोगों घबराने की जरूरत नहीं है. आवश्‍यक सेवाएं लोगों काे मिलती रहेगी. केवल उनके खुलने का समय घटा दिया गया है. सासाराम शहर के प्रमुख बाजारों जैसे रौजा रोड, धर्मशाला रोड व गोला बाजार में खरीदारों की लंबी लाइन लगी रही. यही हाल डेहरी, बिक्रमगंज, नोखा, नासरीगंज, कोचस, करगहर व तिलौथू के बाजार का रहा. इस दौरान कुछ दुकानों पर तो ग्राहकों और दुकानदारों के बीच नोक-झोंक भी हो गई. चार बजते ही पुलिस दुकानों को बंद करवाना शुरू कर दी.

बता दें कि कल यानी पांच मई से फल-सब्जी और राशन की दुकानें सुबह 11 बजे तक ही खुलेंगी. दवाओं और जरूरी समानों के अलावा अन्य दुकानें बंद रहेंगी. इधर, दुकानदारों का साफ कहना है कि लॉकडाउन के कारण रोजमर्रा में इस्तेमाल होने वाले खाद्य पदार्थों की कीमत का असर सामानों पर नहीं पड़ेगा. खाद्य साम्रगी का यहां पूरा स्‍टॉक है. लॉकडाउन का कोई भी असर ग्राहकों पर नहीं पड़ेगा. 

Leave a Reply