संझौली में पौधारोपण कर प्रकृति की रक्षा लिया का संकल्प, वेबिनार में बोले मंत्री- वृक्षों से मित्रता पर्यावरण संरक्षण के लिए जरूरी

विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर संझौली प्रखंड के विभिन्न गांवों में युवाओं ने पौधारोपण कर उनकी रक्षा करने की जिम्मेदारी ली. वहीं, प्रखंड मुख्यालय में पदाधिकारियों एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं ने पौधारोपण किया. साथ ही पर्यावरण को बचाने का संकल्प भी लिया गया. इससे पहले ’ट्री प्लान्टेशन प्रोग्राम’ विषय पर आयोजित वर्चुअल वेबिनार को संबोधित करते हुए बिहार सरकार के ग्रामीण विकास मंत्री श्रवण कुमार ने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति को प्रदूषण मुक्त पर्यावरण में पूर्ण मानव गरिमा के साथ रहने का अधिकार है. प्रकृति ने मनुष्य सहित सभी जीवों के लिए स्थल, जल, वन और वायु के रूप में एक अविरल एवं व्यवस्थित आवरण निर्मित किया है और जिन तत्वों से प्रकृति का जन्म हुआ वे तत्व मानव जीवन के निर्माण में सन्निहित हैं.

उन्होंने कहा कि जबतक 33 प्रतिशत हरियाली परत नहीं हो जाती, तबतक जलवायु परिवर्त्तन नहीं रूकेगा, इसलिए पौधा को लगायें और पेड़ की कटाई को रोकें. उन्होंने बताया कि विश्व आर्थिक मंच ने भी अपनी ग्लोबल प्रतिवेदन, 2021 में जैविक विविधता की कमी एवं पर्यावरण प्रदूषण को मानव सभ्यता के लिए सबसे बड़ा खतरा बतलाया है. कुप्रबन्धन एवं वनों की अनियंत्रित कटाई, भू-जल का अत्यधिक एवं बेतरतीव दोहन पर्यावरण सन्तुलन को लगातार बिगड़ रहा है, जिसका कुप्रभाव ग्लोबल वार्मिंग चक्रवात, बाढ़, तूफान एवं असमय वर्षा के रूप में स्पष्ट दृष्टिगोचर हो रहा है.

मंत्री श्रवण कुमार ने कहा कि विगत महीनों में हमारे देश ने दो-दो चक्रवात एवं कोरोना महामारी को साथ देखा है तथा ऑक्सीजन के महत्व के जाना है. विकास एवं तकनीकी प्रगति की अंधी दौड़ में हमने प्राकृतिक संसाधन, जल, जंगल, भूमिगत जल का असीमित दोहन कर पर्यावरण को स्थायी नुकसान पहुंचाया है, पृथ्वी पर पाये जाने वाले जीवधारियों एवं पर्यावरण दोनों एक दूसरे के पूरक एवं इसकी गतिविधियाँ एक दूसरे को प्रभावित करती हैं. बेविनार के दौरान संझौली में बीडीओ कुमुद रंजन, सीओ विनय शंकर पांडेय, कार्यक्रम सयोंजक अजित कुमार, गिरिजा सिंह, संजय वर्मा, जगु चैधरी, रंजीत कुमार, दीपनारायण, विजय चौधरी, जफर हुसैन एवं अन्य मौजूद थे.

Ad.

Leave a Reply