डालमियानगर के कंपनी कैंपस में की जाएगी रेलवे वैगन मरम्मत कार्यशाला की स्थापना, 300 करोड़ का टेंडर जारी

पूर्व मध्य रेलवे द्वारा क्रय किए हुआ रोहतास इंडस्ट्रीज

रोहतास उद्योग समूह की रेलवे द्वारा खरीदे गए कंपनी कैंपस में रेल वैगन मरम्मत कार्यशाला बनेगी. पूर्व मध्य रेलवे की ओर से इसके एजेंट राइट्स लिमिटेड ने कार्यशाला स्थापना के लिए ई निविदा निकाली है.

राइट्स द्वारा इसके लिए ई-ग्लोबल निविदा निकालकर कंपनियों से आवेदन मांगे गए हैं. निविदा 15 जुलाई को खुलेगी. निविदा लेने वाली कंपनी को 24 माह के अंदर कार्य पूरा कराना होगा. वैगन आवधिक ओवरहालिंग कार्यशाला की स्थापना के लिए अनुमानित लागत 290.45 करोड़ रुपए रखी गयी है. इस कार्य के लिए संवेदक को 25 लाख रुपए अग्रिम जमा करना होगा.

रोहतास उद्योग समूह (फाइल फोटो)

मालूम हो कि वर्ष 2007 में स्थानीय विधायक प्रदीप जोशी की पहल पर तत्कालीन रेल मंत्री रहे लालू प्रसाद यादव के प्रयास से रेलवे ने कबाड़ में बिक रहे रोहतास उद्योग समूह की 220 एकड़ कंपनी कैंपस की खरीद की थी. रेलवे द्वारा किए गए खरीद के 12 वर्षों बाद कार्यशाला की स्थापना के लिए निकाले गए निविदा से स्थानीय लोगों में काफी उम्मीदें जगी हैं.

रेलवे द्वारा खरीदी गयी बंद पड़ी रोहतास उद्योग समूह

बता दें कि रेलवे की पहल पर राइट्स ने कंपनी कैंपस में दो बड़े शेड निर्माण की योजना बनाई थी. पहला शेड 36 हजार स्क्वायर मीटर जिसकी ऊंचाई 13 मीटर और इसमें 20 टन कैपेसिटी के दो क्रेन लगाने एवं दूसरा शेड 12 हजार स्क्वायर मीटर व इसमें 10 टन कैपेसिटी की दो क्रेन लगाने की योजना है.

बंद पड़ी रोहतास उद्योग समूह

उद्योग समूह के 9 जुलाई 1984 को बंद हो जाने के बाद इस क्षेत्र में बेरोजगारी की दर काफी बढ़ी है. खनन क्षेत्र सहित शहर के इंडस्ट्रियल एरिया में छोटे बड़े सभी कारखाने लगभग बंद है. रेलवे के इस पहल पर स्थानीय युवाओं को यह भरोसा जगी है कि उद्योग की स्थापना के बाद स्थानीय लोगों को समुचित भागीदारी के तहत रोजगार मुहैया हो सकेगा. 18 मार्च 1933 से 9 जुलाई 1984 तक डालमियानगर देश के औद्योगिक मानचित्र पर बना रहा था.

स्थानीय लोगों का कहना है कि यह रेलवे का सराहनीय पहल है. वहीं लोगों का कहना है कि, पहले जरूरी है कि निर्माण एजेंसी राइट्स समय कबाड़ हटाए. सरकार को और ज्यादा राशि आवंटित करनी चाहिए ताकि तेजी से सुधार हो सके.

Leave a Reply