रोहतास के लाल सीआरपीएफ जवान अंजनी को मिला वीरता पुलिस पदक, सुकमा में मुठभेड़ के दौरान दो नक्सलियों को मार गिराया था

सीआरपीएफ के 83वें स्थापना दिवस के अवसर पर नई ऑफिसर्स इंस्टीट्यूट वसंत कुंज में समारोह के दौरान बुधवार को रोहतास जिले के कोचस प्रखंड के बलथरी गांव निवासी धनंजय कुमार पांडेय के पुत्र सीआरपीएफ जवान अंजनी कुमार पांडेय को राष्ट्रीय पुलिस वीरता पदक प्रदान किया गया है.

उन्होंने 2010 में सीआरपीएफ में ज्वाईन किया था. वर्तमान में झारखंड के चतरा में पोस्टेड हैं. सीआरपीएफ जवान अंजनी कुमार पांडेय की इस उपलब्धि पर जिले में भी खुशी का माहौल हैं. लोग बधाइयां दे रहे हैं. उन्हें यह पदक 2017 में छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले में नक्सलियों से मुठभेड़ में दो नक्सली को मार गिराने के लिए दिया गया है.

24 अप्रैल 2017 को छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले में द्रोणापाल जगरगोंडा एक्सप्रेस-वे पर सड़क निर्माण में लगे कर्मचारियों की सुरक्षा में तैनात सीआरपीएफ की 74वीं वाहिनी टुकड़ी पर बुरकापाल गांव के नजदीक माओवादियों ने घात लगाकर हमला कर दिया था. अचानक हुए इस भीषण गोलीबारी में टुकड़ी कमांडर निरीक्षक रघुवीर सिंह और सिपाही अभय मिश्रा माओवादियों के हमले का मुंहतोड़ जवाब देते हुए शहीद हो गए थे.

इस अभियान में जवान अंजनी कुमार पांडेय ने अद्भुत वीरता का प्रदर्शन किया था एवं अभियान दल द्वारा दो माओवादियों को मार गिराया गया था. इनके द्वारा प्रदर्शित अदम्य साहस और उच्च कोटि की बहादुरी हेतु इन्हें वीरता के पुलिस पदक से बुधवार को सम्मानित किया गया है. समारोह में सीआरपीएफ जवान की पत्नी प्रीति पुतुल, बेटियां प्रांजल एवं अपूर्वा व भाई रौशन कुमार पांडेय भी मौजूद रहे. मौके पर शशिभूषण मिश्रा, नेहा नूपुर, मेधा माधवी, गोलू मिश्रा समेत अन्य ने बधाई दी हैं.

Leave a Reply