झारखंड में सड़क दुर्घटना में मृत सीआरपीएफ जवान का पार्थिव शरीर पहुंचा रोहतास, सैनिक सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कार

रोहतास जिले के नोखा थाना क्षेत्र के डुमरा गांव निवासी झारखंड में कार्यरत जवान मिथलेश कुमार का शव बुधवार की देर रात सैनिक वाहन से गांव पहुंचते हीं पूरा इलाका गमगीन हो गया. जहां से गुरुवार सुबह में अंतिम संस्कार के लिए गंगा घाट बक्सर ले जाया गया. तिरंगे में लिपटे शव को केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल द्वारा सलामी दिए जाने के बाद सैनिक के आठ वर्षीय इकलौते पुत्र आरभ सिंह ने मुखाग्नि दी.

विदित हो कि डुमरा गांव निवासी बशिष्ठ मुनि सिंह के पुत्र मिथलेश कुमार सिंह झारखंड के चाईबासा में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल में पांच वर्षों से तैनात थे. जिनकी विगत रविवार को विभागीय प्रशिक्षण रांची में भाग लेने जाने के क्रम में उरमांझी थाने के पास एक सड़क हादसे में मौत हो गई थी. ट्रेनिंग में नहीं पहुंचने पर जब इनकी खोज-बीन शुरू हुई तब जाकर मौत की जानकारी मिली थी. बुधवार की देर रात उनका तिरंगे में लिपटा शव पुलिस बल के जवान सैनिक वाहन से लेकर गांव पहुंचे.

मां-पिता के एकलौते पुत्र के अंतिम दर्शन के लिए भीड़ उमड़ गई. गुरुवार सुबह परिजनों की मौजूदगी में उनका अंतिम संस्कार पूरे सैन्य सम्मान के साथ बक्सर में किया गया. जवान के परिजन का रो रोकर बुरा हाल था. मृतक की माता विमला देवी कैंसर का इलाज मुंबई में करा रही हैं, पिता बशिष्ठ सिह भी पत्नी का इलाज कराने मुंबई गए थे. एकलौते पुत्र के मौत की सूचना पाकर पिता अपनी पत्नी को अस्पताल में इलाजरत छोड़ रांची पहुंच शव के साथ घर पहुंचे. पूरे परिवार का दारोमदार मृतक मिथलेश सिंह पर ही था.

Leave a Reply