रोहतास में 7 उर्वरक की दुकानों का लाइसेंस निलंबित, 6 से शो-कॉज, एक पर प्राथमिकी दर्ज; डीएम के निर्देश छापेमारी के बाद कार्रवाई

रोहतास में डीएम धर्मेंद्र कुमार के निर्देश पर उर्वरक की दुकानों में छापेमारी अभियान चलाया गया. जिसके बाद सात दुकानों के लाइसेंस सस्पेंड कर दिया गया है. इसके अलावे 6 दुकानों से शो-कॉज पूछा गया है. इस संबंध में डीपीआरओ सत्यप्रिय कुमार ने शनिवार को बताया कि किसानों द्वारा जिलाधिकारी के पास लगातार शिकायतें आ रही थी कि अधिक मूल्य पर उर्वरक बेचा जा रहा है. इसके बाद डीएम धर्मेन्द्र कुमार द्वारा छापेमारी का निर्देश दिया गया.

बताया कि निर्देश के आलोक में अबतक 89 उर्वरक प्रतिष्ठानों पर छापेमारी की गई, जिसमें सात प्रतिष्ठानों का लाइसेंस सस्पेंड कर दिया गया है. इसके अलावे 6 प्रतिष्ठानों से शो-कॉज किया गया है. जबकि एक प्रतिष्ठान पर प्राथमिकी भी दर्ज की गई है. जिसमें चेनारी के ओम इन्टरप्राईजेज व मुण्डेश्वरी इन्टरप्राईजेज, राजपुर के चौधरी खाद भंडार व स्नेहा इन्टरप्राईजेज, रोहतास के सुमन कृषि केंद्र, शिवसागर के कुषक सेवा केंद्र व आनंद खाद भंडार का लाइसेंस निलंबित कर दिया गया है.

जबकि सासाराम के मां ताराचण्डी खाद भंडार व जनता खाद भंडार, नोखा के नोखा खाद भंडार, चेनारी के लक्ष्मण इन्टरप्राईजेज, सूर्यपुरा के संगम खाद भंडार व कृषक सेवा केंद्र से शो-कॉज किया गया है. डीपीआरओ ने बताया कि चेनारी प्रखंड के पंचायत सरकार भवन मल्हीपुर में अनुश्रवण सह रात्रि विश्राम शिविर के दौरान ग्रामीणों ने अधिक मूल्य पर उर्वरक मिलने की शिकायत डीएम से की थी.

जिसके बाद डीएम के निर्देश पर जिला कृषि पदाधिकारी एवं प्रखण्ड कृषि पदाधिकारी चेनारी द्वारा संयुक्त रूप से जांच किया गया एवं शिकायतकर्ता के लिखित बयान के आधार पर मेसर्स जय माता दी प्रोपराइटर विकास कुमार गुप्ता मल्हीपुर को निलंबित करते हुए शुक्रवार को प्राथमिकी दर्ज की गई है. डीएम ने सभी उर्वरक प्रतिष्ठानों को सरकार की जीरो टॉलरेंस निति को पालन करने का निर्देश दिया है.

Leave a Reply