रोहतास: व्हाट्सएप के जरिए पढ़ाई कर रहे सरकारी स्कूलों के छात्र, जिला शिक्षा विभाग ने बनाया है व्हाट्सग्रुप ग्रुप

कोरोना काल में शैक्षणिक बंदी के बाद सभी सरकारी व निजी संस्थानों को नए सत्र की शुरूआत से पहले ही बंद कर दिया गया था. निजी विद्यालयों द्वारा परिस्थिति के अनुसार अपने विद्यालयों में नामांकित छात्रों को ऑनलाइन के माध्यम से शिक्षा देने का कार्य किया जा रहा है. लेकिन, जिला शिक्षा विभाग की विशेष पहल का असर सरकारी विद्यालयों पर भी दिखाई देने लगा है. शिक्षा विभाग के आदेश पर सरकारी विद्यालयों के छात्रों को भी डिजिटल तरीके से पढ़ाई कराई जा रही है. जिले के अधिकांश सरकारी विद्यालयों में वर्ग नौवीं से बारहवीं तक के छात्रों को व्हाट्सएप ग्रुप के माध्यम से पढ़ाई कराई जा रही है. व्हाट्सएप ग्रुप में शैक्षणिक संचालन की व्यवस्था के तहत विद्यालयों में विषयवार एक-एक शिक्षक को ग्रुप एडमिन के रूप में जोड़ा गया है. ग्रुप में शिक्षक ई-क्लास का संचालन के साथ-साथ होमवर्क भी देते है. इस कार्य के लिए डेहरी अनुमंडल में संतोष कुमार मिश्र, बिक्रमगंज अनुमंडल में सत्यम कुमार सिंह एवं सासाराम अनुमंडल में केशव प्रसाद समन्वयक का कार्य कर रहे है.

विदित हो कि मैट्रिक परीक्षा के बिहार टॉपर संदीप कुमार ने भी कहा था कि विद्यालय बंद होने की स्थिति में खुद की पढ़ाई के साथ डिजिटल पढ़ाई के माध्यम को चुनना काफी फायदेमंद साबित हुआ था. इस बातों को देखते हुए इसे नकारा नहीं जा सकता है कि सरकारी विद्यालयों के छात्र भी पढ़ाई के लिए डिजिटल माध्यमों को चुनने से परहेज नहीं करेंगे. यही कारण है कि पिछले एक सप्ताह के अंदर जिले के उच्च विद्यालयों के हजारों छात्र को डिजिटल पढ़ाई के लिए व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ चुके हैं. वहीं, जिले में सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले अधिकांश बच्चे कमजोर वर्ग के हैं. इनके पास ना तो स्मार्ट फोन है और ना ही ऑनलाइन पढ़ाई की समझ है.

जिला शिक्षा पदाधिकारी संजीव कुमार ने कहा कि जिले के सभी उच्च विद्यालयों में व्हाट्सएप ग्रुप से छात्रों को जोड़ा गया है. कम दिनों में ही हजारों छात्रों को व्हाट्सएप ग्रुप से जोड़ा जा चुका है. शहरी क्षेत्रों के साथ ग्रामीण क्षेत्रों में भी सभी सरकारी उच्च विद्यालयों में व्हाट्सएप ग्रुप बनाया गया है. जिला शिक्षा विभाग ने सरकारी विद्यालयों में पढ़ने वाले सभी छात्रों और अभिभावकों को यह निर्देश दिया है कि अपने प्रधानाचार्य या फिर वर्ग शिक्षक से मोबाइल के माध्यम से संपर्क करके अपना व्हाट्सएप नंबर ग्रुप में जोड़वा सकते है. उन्होंने बताया कि इसके अलावे सरकार द्वारा कक्षा एक से 12वीं तक के छात्रों के टेक्स्ट बुक के लिए ई-लाइब्रेरी तैयार की गई है. अब केवल एक क्लिक करने से सारी किताबें ई-लाईब्रेरी में उपलब्ध है. वेबसाइट bepclots.bihar.gov.in पर शिक्षकों व विद्यार्थियों को आसानी से ये किताबें मिलेंगी. गूगल प्ले स्टोर में जाकर ई-लॉट्स एप के माध्यम से मोबाइल पर डाउनलोड करने का भी विकल्प मौजूद है.

Ad.

Leave a Reply