रोहतास के एनएमसीएच में कोरोना से जंग जीते 12 और मरीज डिस्चार्ज, अबतक जिले के 36 मरीजों ने कोरोना वायरस काे दी मात

रोहतास जिले में कोरोना वायरस के पॉजिटिव मरीजों के उपचार के पश्चात स्वस्थ होकर उनके घर लौटने का सिलसिला जारी है. जमुहार स्थित नारायण मेडिकल कॉलेज व अस्पताल में डॉक्टर्स की मेहनत लगातार रंग ला रही है. जमुहार के एनएमसीएच में एडमिट मरीजों में से 12 और मरीजों ने कोरोना के खिलाफ जंग जीत ली. कोरोना की दूसरी एवं तीसरी सैंपल जांच में इन मरीजों का रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद शुक्रवार को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया. लगातार निगेटिव रिपोर्ट आने के बाद चेस्ट की एक्सरे कराई गयी उसके बाद गाइडलाइन के अनुसार इन 12 मरीजों को डिस्चार्ज कर दिया गया. शुक्रवार को ठीक हुए मरीजों में सासाराम, नोखा एवं दावथ के निवासी है.

ठीक हुए सभी लोग को स्वास्थ्य विभाग के गाइडलाइन के मुताबिक होम आइसोलेशन का पालन करना होगा. डिस्चार्ज हुए लोगों ने कहा है कि, जितने दिन से हॉस्पिटल में थे. सबने बहुत सहयोग किया. उम्दा इलाज किया. इसके फलस्वरूप स्वस्थ हो गये. हम यदि आज अपने घर लौट रहे हैं तो इसका पूरा श्रेय डॉक्टर्स और मेडिकल स्टाफ काे जाता है, जिन्होंने हमारी इतनी सेवा कर हमें ठीक किया. ठीक हुए लोगों ने कहा कि इस बीमारी को छुपाओ मत, समझो और इलाज कराओ, स्वस्थ हो जाओगे. सरकार, डॉक्टर, पुलिस आदि को सहयोग करो.

बता दें कि रोहतास जिले में सबसे पहले 22 अप्रैल को कोरोनावायरस संक्रमित मरीज मिला था. अबतक जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 54 तक पहुंच गई है. जिले के अबतक 36 मरीज स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हो गये है. जिसमें जमुहार के एनएमसीएच से 33, गया के एएनएमएमसीएच से दो एवं पटना के एनएमसीएच से एक कोरोना संक्रमित मरीजों को स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज किया गया है. वहीं अब जमुहार के नारायण मेडिकल कॉलेज व अस्पताल में 12 संक्रमित मरीज इलाजरत हैं. दो मरीज पटना के एनएमसीएच एवं तीन मरीज गया में उपचार हेतु भर्ती हैं.

इसके अलावे गुरुवार को जिले में एक कोरोना संक्रमित 70 वर्षीय वृद्ध की मौत हो चुकी है. 70 साल के वृद्ध को सांस लेने में तकलीफ थी. उन्हें सासाराम सदर अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में एक सप्ताह पहले भर्ती किया गया था. हालत गंभीर हुई तब मंगलवार को उन्हें नारायण मेडिकल कॉलेज जमुहार रेफर किया गया. यहां मरीज को वेंटिलेटर पर रखा गया, लेकिन उनकी जान नहीं बचाई जा सकी. मौत के बाद मरीज की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई. अंतिम संस्कार जिला प्रशासन की देखरेख में भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद के एसओपी के अनुसार किया गया.

वहीं बुधवार को नारायण चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल से करोना को मात देने वाले मरीजों को डिस्चार्ज करते समय संस्थान के सचिव गोविंद नारायण सिंह, प्रबंध निदेशक त्रिविक्रम नारायण सिंह, चिकित्सा अधीक्षक डॉ. प्रभात कुमार, महाप्रबंधक उपेन्द्र कुमार सिंह, प्रभारी परिचारिका अधीक्षक शशांक शेखर, कोरोना वार्ड के नोडल अधिकारी समेत स्वास्थ्य कर्मचारियों ने ठीक हुए मरीजों को शुभकामनाएं दी एवं उत्साह वर्धन किया. सभी ने तालियां बजाकर कोरोना को मात देने वाले लोगों का हौसला अफजाई की .वहीं ठीक हुए मरीजों को दवाएं, सैनिटाइजर एवं साबुन के पैकेट तथा घर पर उनके जीवन शैली हेतु आवश्यक जानकारी से संबंधित पत्रक भी भेंट किये गए.

Leave a Reply