कल से शुरू हो रहा सावन का महीना, गुप्ताधाम में नहीं लगेगा मेला, कांवड़ियों के जाने पर रोक

भगवान महादेव की विशेष पूजा अर्चना का महीना सावन इस बार 25 जुलाई से शुरू होगा. दूसरे ही दिन यानी 26 जुलाई को सावन का पहला सोमवार रहेगा. इस वर्ष सावन का महीना 29 दिन का ही रहेगा. धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक सावन में शिवजी की आराधना करने से भक्तों की हर मनोकामना पूर्ण होती हैं. सावन महीने में पड़ने वाले हर सोमवार का खास महत्व है. वहीं, सावन में पूरी विधि-विधान के साथ भगवान शिव और माता गौरी की पूजा करने से मनचाहा जीवनसाथी का भी आशीर्वाद मिलता है. ज्योतिषाचार्य ने बताया कि इस बार सावन में 4 सोमवार होंगे. इस बार सावन का महीना 25 जुलाई से 22 अगस्त तक रहेगा. 13 अगस्त को नागपंचमी का पर्व होगा और श्रावण की पूर्णिमा पर 22 अगस्त को रक्षाबंधन का पर्व मनेगा.

कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए गृह विभाग के आदेशानुसार सावन माह में इस बार भी मंदिरों में भक्तों को जाने की अनुमति नहीं रहेगी. भक्तों को घर पर ही पूजा अर्चना करनी होगी. वहीं, रोहतास जिले के कैमूर पहाड़ी के वादियों में अवस्थित गुप्ता धाम मेले में धार्मिक आयोजन पूर्णरूप से प्रतिबंध रहेगा. गुफा के अंदर मौजूद प्राकृतिक शिवलिंग पर भी जलाभिषेक करने कोई नहीं पहुंच पाएगा. गुप्ता धाम तक पहुंचने वाले सभी रास्तों में प्रशासन ने पुलिस बल तैनात करने का निर्णय लिया है. जो पहाड़ी के नीचे से ही श्रद्धालुओं को जाने से रोकेंगे. इसी तरह रोहतास वन क्षेत्र में पड़ने वाले गुप्ता धाम के अलावे रोहतासगढ़ किला में मौजूद रोहितेश्वर शिव मंदिर के लिए भी समान्य गाइडलाइन रहेगा. जहां आयोजित होने वाले मेले और पूजा अर्चना पर प्रतिबंध जारी रहेगा.

डीएफओ प्रदुम्न कुमार गौरव ने बताया कि गृह विभाग से प्राप्त आदेश के अनुसार इस वर्ष गुप्ताधाम मेले के आयोजन पर रोक लगा दी गई है. इसको लेकर जनप्रतिनिधि एवं गुप्ताधाम विकास समिति के सदस्यों को भी आवश्यक निर्देश देने के साथ उनसे सहयोग के लिए अपील की गई है. बाहर से गुप्ताधाम आने वाले श्रद्धालुओं को चेनारी बाजार व आसपास के क्षेत्र में बने चेकनाका पर ही रोक कर उन्हें पुन: लौटा दिया जाएगा. बताया कि इसके लिए वन विभाग पनियारी, उगहनी, दुर्गावती जलाशय परियोजना, बादलगढ़  आदि जगहों पर चेकपोस्ट बनाए जाएंगे. प्रखंड स्तर के अधिकारी को भी कई निर्देश दिया गया है. डीएफओ ने बताया कि गुप्ताधाम के श्रावणी मेले में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ रहती है तथा गुफा काफी संकीर्ण है. इसलिए संक्रमण का खतरा बढ़ने का भय बना रहेगा. अधिकारियों ने आमजनों से भी अपील की है कि अगले आदेश तक गुप्ताधाम नहीं जाएं और आपने रिश्तेदार, मित्र को भी यह जानकारी दें, ताकि दूसरे स्टेट से आकर पुन: उन्हें निराश होकर लौटना न पड़े. गुप्ताधाम विकास कमेटी के पदाधिकारियों से भी कोविड-19 गाइडलाइन का सख्ती से पालन करने को कहा गया. कमेटी सदस्यों को बताया गया कि धाम स्थित गुफा के मुख्य दरवाजे पर ताले बंद रहेंगे.

Ad.

Leave a Reply