रोहतास: खाद्य व पोषण विषय पर संगोष्ठी का आयोजन, कृषि मंत्री बोले- दुनिया में नंबर वन हो सकता है भारत

कृषि विज्ञान केंद्र रोहतास में गुरुवार को खाद्य एवं पोषण किसानों हेतु विषय पर कृषक गोष्ठी का आयोजन किया गया. गोष्ठी में रोहतास के विभिन्न प्रखंडों से लगभग 70 कृषकों ने भाग लिया. कार्यक्रम में वर्चुअल माध्यम से केन्द्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि सरकार कृषकों की आय बढ़ाने हेतु तत्पर है. उनके खाद्य सुरक्षा एवं पोषण सुरक्षा हेतु कई कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं. कृषि विज्ञान केंद्र द्वारा उनको उचित सलाह मुहैया कराई जा रही है. कृषकों को ज्यादा से ज्यादा जैविक खादों के इस्तेमाल हेतु सलाह दी.

उन्होंने कहा है कि भारत ने खाद्यान्न के क्षेत्र में बड़ी उपलब्धि हासिल की है. कृषि व सम्बद्ध उत्पादों में हमारा देश दुनिया में नंबर एक या दो पर है. हमारे किसानों व वैज्ञानिकों की इतनी ताकत है कि हम दुनिया में प्रतिस्पर्धा करें तो लगभग सभी उत्पादों में नंबर एक हो सकते हैं. आज इतना उत्पादन व बढ़ती हुई उत्पादकता हम सब के लिए गौरव व प्रसन्नता का विषय है. लेकिन आजादी के 75वें वर्ष में हम ऐसे मुकाम पर खड़े है, जहां हमें आत्मावलोकन करने के साथ ही चुनौतियां तथा उनके समाधान पर विचार करना होगा.

यह कार्यक्रम पूरे भारत के सभी कृषि विज्ञान केंद्रों में संपन्न कराया गया है. कृषि विद्यान केंद्र रोहतास में कार्यक्रम क दौरान उपस्थित प्रभारी वरीय वैज्ञानिक एवं प्रधान ने कहा कि किचन वाटिका अपने घर के आस-पास जरूर लगाएं. यह पोषण संबंधी जरूरतों को सालों भर पूरा कर सकता है. छोटे-छोटे तालाब और मुर्गी पालन घर के आस-पास करके प्रोटीन संबंधी जरूरतों को पूरा किया जा सकता है. उद्यान वैज्ञानिक डॉ रतन कुमार ने उपस्थित कृषकों को विस्तार पूर्वक मशरूम उत्पादन तकनीक के बारे में बताया. कहा कि मशरूम उच्च प्रोटीन से भरा खाद्य पदार्थ है जिसको उगाने में किसी जमीन की जरूरत नहीं पड़ती है. मृदा वैज्ञानिक डॉक्टर रामाकांत सिंह ने जैविक खेती एवं वर्मी कंपोस्ट उत्पादन के बारे में कृषकों को बताया. कार्यक्रम में एचपी शर्मा, अभिषेक कौशल, सुभाष कुमार, प्रवीण कुमार आदि मौजद थे.

Leave a Reply