कैमूर में वन्य जीवों की तस्‍करी का पर्दाफाश, सात तस्कर गिरफ्तार, तेंदुआ का खाल, दांत, दोमुंहा सांप, कछुआ बरामद

कैमूर जिले में वन्य जीवों के अंगों की तस्करी का पर्दाफाश हुआ है. कैमूर पुलिस ने गुप्त सूचना के आधार पर छापेमारी कर तेंदुआ का खाल, जंगली सुअर के दांत, मृग के कस्तूरी, पैंगोलिन का खाल, भालू के बाल, दोमुंहा सांप, कछुआ सहित कई समान बरामद किया है. पुलिस ने दो फर्जी डॉक्टर सहित सात तस्करों को गिरफ्तार कर उनके पास से 81 हजार 180 रुपया भी बरामद किया है.

Ad.

पुलिस को डब्ल्यूसीसीबी द्वारा गुप्त सूचना दी गई थी कि अघौरा पहाड़ी से जंगली जानवरों की तस्करी की जा रही है. पुलिस ने तत्काल टीम गठित कर छापेमारी कर अधौरा और भभुआ के होटल से सात तस्करों को धर दबोचा.

एसपी दिलनवाज अहमद ने बताया कि गुप्त सूचना पर यह छापेमारी की गई जिसमें गिरोह के मास्टरमाइंड उत्तर प्रदेश के सोनभद्र का रहने वाला मनोज कुमार और पश्चिम बंगाल का रहने वाला देवा है. यह दोनों अधौरा में बंगाली क्लिनिक चलाते थे, साथ ही यहां से जंगली जानवरों की खाल, दांत, बाल सहित अंगों को तस्करी करते थे. उन्होंने बताया कि वन्य जीवों के अंगों को यह लोग देश में लाखों रुपए में बेचते थे. जब्त किए गए जानवरों के अंगों की विदेशों में कीमत करोड़ो में आंकी जा रही है. गिरफ्तार तस्करों से पुलिस की पूछताछ जारी है.

वहीं, पुलिस विभाग की सक्रियता और उसके कार्य की जहां एक ओर क्षेत्र के लोग प्रशंसा कर रहे हैं तो दूसरी ओर जिस वन विभाग की जिम्मेदारी जंगल और वन्य प्राणियों की सुरक्षा करना है उसकी कार्यशैली पर क्षेत्र के लोग सवाल खड़े कर रहे हैं.

Leave a Reply