इंद्रपुरी बराज से धान का बिचड़ा डालने के लिए नहरों में 25 मई से छोड़ा जाएगा पानी

सिंचाई के लिए जीवनरेखा इन्द्रपुरी बराज से खरीफ फसलों के लिए पश्चिमी सोन नहरों में रोहिणी नक्षत्र के आरंभ होते मंगलवार से पानी की आपूर्ति शुरू हो जाएगी. जल संसाधन विभाग ने 25 मई से खरीफ फसलों के लिए सोन नहरों से पटवन के लिए पानी छोड़ने का निर्देश दिया है. पश्चिमी संयोजक नहर से रोहतास, कैमूर, बक्सर व भोजपुर जिले को खेतो तक पानी की आपूर्ति की जाती है.

जल संसाधन विभाग मॉनिटरिंग सेल के मुख्य अभियंता ओम प्रकाश सिंह के मुताबिक खरीफ फसलों के लिए से पानी की मंगलवार से आपूर्ति होगी. हाल के वर्षो में जून के प्रथम या दूसरे सप्ताह में पानी की आपूर्ति की जाती रही है. उन्होंने कहा कि खरीफ फसलों के लिए इन्द्रपुरी बराज पर पानी के भंडारण का कार्य पूर्ण हो गया है. 355 पाउंड लेवल पर बराज में पानी का भंडारण हो चुका है. उत्तर प्रदेश के रिहंद जलाशय से पर्याप्त मात्रा में इंद्रपुरी बराज पर पानी प्राप्त हो रहा है. बताया कि नहरों को पानी रोक अपने स्वार्थ में कार्य करने वाले किसानों पर प्राथमिकी दर्ज की जाएगी.

वहीं पूर्वी संयोजक नहरो में भी जल्द पानी की आपूर्ति प्रारम्भ की जाएगी. पश्चिमी संयोजक नहर में धीरे-धीरे पानी छोड़ा जाएगा. उन्होंने कहा कि विभागीय अभियंताओं को नहरों की पेट्रोलिंग करने को निर्देशित किया गया है, ताकि  बिचड़ा डालने को पानी खेतों तक पहुंचाया जा सके. विदित हो कि जून 2001 को निर्गत अधिसूचना के अनुसार सोन नहर प्रणाली में खरीफ फसलों के लिए 20 मई से 30 अक्टूबर तक पानी की आपूर्ति करनी है. इस बार तय कार्यक्रम के पांच दिनों बाद पानी की आपूर्ति प्रारम्भ हो रही है.

Ad.

Leave a Reply