रोहतास के इस अस्पताल में ‘आयुष्मान भारत योजना’ के तहत हुआ पहला मुफ्त ऑपरेशन

आयुष्मान भारत योजना के तहत जिले में पहला ऑपरेशन बुधवार को किया गया. जो परिवार रुपये के अभाव में ऑपरेशन नहीं करा पा रहा था, वह मुफ्त इलाज कराने से खुश है. जिले के जमुहार स्थित नारायण मेडिकल कॉलेज व अस्पताल में आयुष्मान भारत के तहत पहला सर्जिकल केस किया गया. यह केस सुपर स्पेशलिस्ट विभाग यूरोलॉजी किया गया. यह दक्षिण बिहार के निजी अस्पताल में इस योजना के तहत लाभ पाने वाले ये पहले लाभार्थी हैं.

बता दें कि रोहतास जिले में 199143 ग्रामीण व 36159 शहरी क्षेत्र समेत 15 लाख लोगों को आयुष्मान भारत योजना का लाभ मिलेगा. इसके तहत चयनित परिवार को नि:शुल्क इलाज सरकारी के अलावा अधिकृत निजी क्लीनिकों में होगा.

नारायण मेडिकल कॉलेज व अस्पताल में आयुष्मान भारत के लाभार्थी के दौरान डॉक्टर

वहीं नारायण मेडिकल कॉलेज व अस्पताल के महाप्रबंधक उपेन्द्र कुमार सिंह के मुताबिक इस योजना का लाभ उठाने के लिए गोल्डन कार्ड होना चाहिए. जो 30 रूपये में किसी भी वसुधा केंद्र में बनाया जा सकता हैं. ये कार्ड बनावकर लाभार्थी 5 लाख रूपये तक का मुफ्त इलाज करा सकते है. गोल्डन कार्ड के लिए कामन सर्विस सेंटर को शामिल करने का मेन उद्देश्य है, कि अगर हम आज भारत की बात करें तो सीएससी ऐसी संस्था है जो हर गांव तक पहुंच रखती है. अस्पताल की अगर हम बात करें तो यहाँ पर भी आसमान कार्ड बनेंगे, लेकिन गांव के लोगों उसे अस्पताल काफी दूर होता है. अस्पताल में आपको आयुष्मान भारत गोल्डन कार्ड फ्री में बनेंगे.

क्या है आयुष्मान भारत योजना:
आयुष्मान भारत योजना का लक्ष्य खासकर निम्न और निम्न मध्यम वर्ग के परिवारों को महंगे मेडिकल बिल से निजात दिलाना है. इस योजना के दायरे में गरीब, वंचित ग्रामीण परिवार और शहरी श्रमिकों की पेशेवर श्रेणियों को रखा गया है. नवीनतम सामाजिक आर्थिक जातीय जनगणना (एसईसीसी) के हिसाब से गांवों के ऐसे 8.03 करोड़ और शहरों के 2.33 परिवारों को शामिल किया गया है. सरकार की इस महत्वाकांक्षी योजना के तहत प्रत्येक परिवार को सालाना पांच लाख रुपये की कवरेज दी जाएगी और वे सरकारी या निजी अस्पताल में कैशलेस इलाज करा सकेंगे.

योजना में कौन शामिल है, ऐसे करें पता:
योजना में आप शामिल हैं या नहीं, यह पता करना बहुत आसान है. सबसे पहले आयुष्मान भारत (Ayushman Bharat) की वेबसाइट https://mera.pmjay.gov.in खोलें. यहां अापको अपना मोबाइल नंबर डालना होगा. उसके बाद एक ओटीपी आएगा. इस अोटीपी को वेबसाइट पर डालकर वेरीफाई करने के बाद एक पेज खुल जाएगा. जहां आप देख सकते हैं कि योजना में शामिल हैं या नहीं.

अगर वेबसाइट पर नाम नहीं है तो:
अगर 
आयुष्मान भारत (Ayushman Bharat) की वेबसाइट पर आपका नाम नहीं दिख रहा है तो परेशान होने की जरूरत नहीं है. इसी वेबसाइट पर SICC (सोशल इकोनॉमिक कास्ट सेंसस) का लिंक है. इस लिंक पर जाकर आपको अपना नाम, पता, पिता का नाम और राज्य आदि जैसे ब्योरे डालने होंगे. इसके बाद डिटेल खुल जाएगी.

आयुष्मान मित्र से करें संपर्क:
वेबसाइट पर आपका नाम नहीं है तो नजदीकी सरकारी या योजना में शामिल निजी अस्पताल से संपर्क कर सकते हैं. यहां आपकी मदद के लिए सरकार ने आयुष्मान मित्र/आरोग्य मित्र तैनात किये हैं. उनसे योजना से जुड़ी हर छोटी-बड़ी जानकारी ली जा सकती है.

अस्पताल में ऐसे ले सकते हैं सुविधा का लाभ:
अगर आप योजना में शामिल हैं और इसका लाभ लेना चाहते हैं यह बहुत आसान है. आपको योजना में शामिल अस्पताल के आयुष्मान मित्र या आयुष्मान मित्र हेल्प डेस्क से संपर्क करना होगा. वहां आपको पहचान पत्र जैसे दस्तावेज दिखाने होंगे. इसके लिए आधार कार्ड, मतदाता पहचान पत्र या राशन कार्ड की जरूरत पड़ेगी.

इन बीमारियों का करा सकते हैं इलाज: 
आयुष्मान योजना में शामिल करीब दस हजार अस्पतालों में 13 सौ से ज्यादा बीमारियों और इससे संबंधित पैकेज को इलाज में शामिल किया गया है. जिसमें कैंसर की सर्जरी, हार्ट की बाइपास सर्जरी, आंख-दांत का ऑपरेशन, सीटी स्कैन, एमआरआई जैसी तमाम चीजें शामिल हैं.

 

Leave a Reply